"ब्लू टिक के लिए नहीं दूंगी पैसे, मैंने 2 लाख ट्वीट किये है! भारत की पहली ट्विटर यूजर ने कहा

भारत की पहली Twitter यूजर बोली हूं :ब्लू टिक के पैसे नहीं दूंगी, पौने 2 लाख ट्वीट किए, जब बनाया अकाउंट तो नहीं था इंडियन
  
first indian user of twitter naida rehdu

सोशल मीडिया एक ऐसा प्लेटफार्म है जहां पर लोग आए दिन लोकप्रिय हो रहे है। यह एक ऐसा माध्यम बन गया है जिसे लोग सबसे ज्यादा इस्तेमाल कर रहे है। इसी से जुड़ी एक कहानी आज हम आपको बताने वाले है। मालूम हो की इन दिनो ट्विटर शब्द लोगो के जुबां पर खूब सुनने को मिल रहा है । क्योंकि एलन मस्क ने हाल ही में ट्विटर अपने नाम कर लिया है।

उसी से संबंधित एक कहानी आज हम आपको बताने वाले है। नैना रेढ़ू जो मध्यप्रदेश के इंदौर जिले की रहने वाली है। उनका पेशा और पैशन फोटोग्राफी है और साथ ही वो सोशल मीडिया इंफ्लुएंसर और ब्लॉगर भी है। जिन्हे भारत में पहली बार ट्विटर यूजर के रूप में  पहचान मिली थी।

first indian user of twitter naida rehdu

नैना रेढू ने अपनी जीवन से जुड़ी बाते बताई

नैना रेढू जिन्हे ट्विटर यूजर के रूप में पहचान मिली थी। आज के समय में वो एक सोशल मीडिया इनफ्लुएंसर है । नैना ने बताया कि, जब भारत में इंटरनेट की शुरुआत हुई । तब से हमारे घर में भी यह इंटरनेट सेवा शुरू हो गई थी। उन्होंने बताया कि साल 1997 में पहला कंप्यूटर उनके घर आया था। उनके पिता चाहते थे कि बच्चे इंटरनेट के बारे में जानें। तभी मैंने अपना ई-मेल अकाउंट भी बनाया था। मुझे इंटरनेट से यह समझ में आ गया था कि ये काम की चीज है। और बाद में मुझे इंटरनेट के प्रति काफी दिलचस्पी बढ़ गई। अलग-अलग प्लेटफॉर्म पर जाकर साइन अप करती और देखती कि यहां क्या होता है?

नैना रेढू ने कहा कि, सोशल मीडिया पर सबसे पहले ऑरकुट पर मैने अकाउंट बनाया था। जहा वो काफी सक्रिय रहती थी। इस प्लेटफार्म पर मैने एक कम्युनिटी बनाई जहा से कई लोगो ने साइनअप किया। मैं ब्लाग भी बनाया करती थी इन सब कामों में काफी इंट्रेस्ट आने लगा।

first indian user of twitter naida rehdu

ट्विटर जॉइन करने को मिला था मेल

नैना रेढू ने बताया उस दौरान मुझे ट्विटर से एक मेल आया था। जिसमे लिखा था कि हमे मालूम है आप न्यू - न्यू सर्विस से जुड़ती है। हमने एक न्यू सर्विस लांच किया है, आप भी जॉइन करें। मैंने इस पर अपना अकाउंट बना लिया। उन्होंने आगे कहा कि जब मैंने यह इस्तेमाल करना शुरू किया।  इस पर कैलिफॉर्निया, टेक्सास, फ्लोरिडा के लोगों की अकाउंट थी। एक भी भारतीय नहीं था, लोग ट्वीट करते थे। चलो कॉफी पीते है पिज्जा खाते हैं। मैं फिर वहा क्या ट्वीट करती? बाद में इससे दूर होने लगी।

first indian user of twitter naida rehdu

साल 2008 में मैंने फर्स्ट टाइम भारत के लोगों के मुंह से ट्विटर के बारे में सुनने लगी। तब मैंने देखा तब मालूम चला की यह मेरा अकाउंट ऑलरेडी बन रखा है। जिसके बाद मैंने ट्विटर यूज करना स्टार्ट कर दिया । कभी सोचा नहीं था लेकिन अब तक मैने 1 लाख 76 हजार ट्वीट किए है। जहा से मुझे काफी पहचान मिली है।

ब्लू टिक के लिए नैना ने कहा पैसे नहीं दूंगी

नैना रेढू ने बताया मीडिया में मुझसे लगातार एक सवाल किया जा रहा है कि क्या मैं ब्लू टिक के लिए रूपए दूंगीतो मेरा जवाब है कि जब तक सब कुछ क्लियर नहीं होता ।  तब तक ब्लू टिक के लिए पैसे नहीं दूंगी। मेरा मानना है कि ट्विटर के मालिक एलन मस्क भी यह तय नहीं कर पा रहे कि आखिर करना क्या है ? इससे पूर्व किसी के अकाउंट की आईडी देखकर या सोशल मीडिया पर उसके इंफ्लुएंस को देखकर ट्विटर एप्रूव कर ब्लू टिक देता था। लेकिन अब इसका पर्पस क्या है मालूम नहीं चल पा रहा है।