भारत के इस गाँव में 4 शादियाँ कर सकती है महिला, टोपी बताती है पत्नी के साथ कमरे में कौन

देश के आखिरी गांव में अलग कानून: 4 शादियां कर सकती है महिला, टोपी बताती है पत्नी के साथ कमरे में कौन
  
last village of india chitkul female can marriage 4 man

दुनिया में कई जगह ऐसी परम्परा होती है। जिसे जानने बाद काफी हैरानी होती कि आज के समय में भी ऐसी अजीबोगरीब रीति - रिवाज का लोग आज भी पालन कर रहे है। ऐसी ही भारत के हिमचलप्रदेश के एक गांव में अजीब सी परंपरा है। जिसे जानने के बाद आप भी हैरान हो जाएंगे। लेकिन उससे पहले बता दे कि यह भारत का अंतिम गांव कहलाता है। देश का यहां आखिरी बस स्टैंड, आखिरी स्कूल, आखिरी पोस्ट ऑफिस है। चीन और तिब्बत की सीमा पर मौजूद इस गांव में 471 वोटर हैं, लेकिन यहां के रीति-रिवाज  काफी अजीब है।

last village of india chitkul female can marriage 4 man

देश के इस आखिरी गांव में आज भी पुराने रीति रिवाज का होता है पालन

देवी - देवता को पूजने वाले इस गांव में एक औरत दो या दो से अधिक पुरुषों से विवाह रचा सकती है। यही नहीं बेटियों को पैतृक संपत्ति में भी हिस्सा नहीं दिया जाता है। इसके अलावा यदि बाहर के लोगो की छाया  खाने में पड़ जाए तो उसे फेंक दिया जाता है। जहा आज भी यहां के लोग इस परंपरा का पालन करते है।

यह स्टोरी भारत और तिब्बत की पुरानी सड़क पर सांगला से 28 किलोमीटर दूर बसे छितकुल गांव की है। यहां से तिब्बत और चीन की बॉर्डर लगभग 60 किलोमीटर दूर है। पहले के समय में बॉर्डर के उस पार  भी लोग जाते थे।  लेकिन 1962 के भारत और चीन युद्ध के बाद से पाबंदी लगा दी गई है।

last village of india chitkul female can marriage 4 man

छितकुल गांव दिल्ली से 602 किलोमीटर है दूर

दिल्ली से 602 किलोमीटर दूर छितकुल गांव है। जहा पर सर्दियां शुरू हो चुकी हैं, पास के पहाड़ों पर बर्फ भी दिखने लगे है। इस गांव में जाना काफी जोखिम भरा है। क्योंकि यहां की सड़के काफी खतरनाक है। वहीं इस गांव में देश की आखिरी पोस्ट ऑफिस, बस स्टैंड भी है। जिसके बाद चीन की बॉर्डर स्टार्ट हो जाती है। लेकिन इस गांव की कुछ परंपराए ऐसी है जिसे जानने के बाद लोग हैरान हो जाते है।

यह की महिलाये कर सकती है चार शादिया

छितकुल गांव के इस रीति - रिवाज के बारे में बताए तो यहां पर महिलाओं को चार शादी करने की आजादी है। इस गांव के प्रधान सुभाष नेगी ने यहां की परंपराओं से जुड़े बातो के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि, छितकुल गांव की कल्चर , रहन-सहन, खान-पान  तथा यहां की कानून भी काफी अलग है।  यहां देश के बाकी हिस्सों की तरह हिंदू मैरिज एक्ट और सक्सेशन एक्ट लागू नहीं होता।

last village of india chitkul female can marriage 4 man

यहां की औरतों को 4 शादियां करने की छूट है। अधिकतर मामलों में देखा गया है औरते एक ही फैमिली के 2 या 4 भाइयों से शादी कर लेती हैं। ऐसा होना आवश्यक नहीं है, लेकिन अक्सर ऐसा ही होता है। ये महिला अपने सभी पतियों के साथ एक ही घर में रहती है। इतना ही नहीं उन्होंने ये भी बताया कि उन चारों भाइयों में से जो भी भाई के साथ वो स्त्री रूम में है। तब वो भाई कमरे के बाहर अपनी टोपी रख देता है। जिससे मालूम चल जाए की कपल कमरे में एक संग है। ऐसे में उसका दूसरा भाई रूम में नही जा सकता है।

शादी में बलि दी जाती है फेरे नहीं होती

वहा के प्रधान नेगी जी में अपनी बातो को आगे बढ़ाते हुए कहा कि, हमारे यहां शादी की भी अलग रीति - रिवाज है। यहां देवी-देवता की मर्जी से ही विवाह संपन्न होती है। विवाह से पूर्व यहां मंदिर में बलि दी जाती है। जिसके बाद देवता को घर लाया जाता है। दुल्हन के घर जाने से पूर्व पंडित नदी तथा नालों के पास से बुरी शक्तियों को भगाने की पूजा - पाठ करते हैं।

last village of india chitkul female can marriage 4 man

विवाह होने से पूर्व जोड़ा मंदिर में पूजा के लिए जाता है । इसके अलावा यहां पर लड़की को उसके पिता की संपति पर कोई हक नहीं होता है। यदि किसी के घर में केवल बेटियां ही है। तब उस दौरान शादी से पहले उनका हक पिता की दौलत पर होता है। लेकिन शादी के बाद उन्हें इस पर कोई अधिकार नहीं होता है। और उनके पिता की संपत्ति किसी रिश्तेदार के नाम हो जाती है।