बाबा रामदेव की 5 दवाओं पर सरकार ने लगाया बैन, बाबा रामदेव बोले - मुझे अभी तक आर्डर की कॉपी नहीं मिली

उत्तराखंड में पतंजलि की 5 दवाओं पर बैन: बाबा रामदेव बोले- ऑर्डर की कॉपी नहीं मिली, ये आयुर्वेद विरोधी ड्रग माफिया का काम
  
Uttrakhand Government Banned 5 Medicine of Baba Ramdev Divya Pharmacy

बाबा रामदेव को लेकर एक बड़ी खबर सामने आ रही है। जहा बताया जा रहा है कि उत्तराखंड सरकार ने बाबा रामदेव के पतंजलि ग्रुप की पांच मेडिसिन के प्रोडक्शन पर बैन लगा दिया है। यह मेडिसिन दिव्य फार्मेसी बनाती है। उत्तराखंड की आयुर्वेद व यूनानी लाइसेंस अथॉरिटी के अनुसार इन मेडिसिन के एड काफी भ्रामक है। हालांकि योग गुरु बाबा रामदेव ने कहा है कि उन्हें ऐसे किसी आदेश की कॉपी नहीं प्राप्त हुई है।  उन्होंने दावा किया कि मेडिसिन पर बैन लगाने के पीछे आयुर्वेद विरोधी माफियाओं की चाल है।

Uttrakhand Government Banned 5 Medicine of Baba Ramdev Divya Pharmacy

पतंजलि के पांच मेडिसिन प्रोडक्शन पर लगे बैन

योग गुरु बाबा रामदेव की पांच मेडिसिन प्रोडक्शन पर उत्तराखंड सरकार में  बैन लगा दी गई है। जिसे लेकर वो काफी सुर्खियो में बने हुए है। जहा केरल के एक चिकित्सक केवी बाबू ने जुलाई में इसकी शिकायत की थी। उन्होंने पतंजलि के दिव्य फार्मेसी की ओर से ड्रग्स एंड मैजिक रेमेडीज एक्ट 1954ड्रग्स एंड कॉस्मेटिक एक्ट 1940 व ड्रग्स एंड कॉस्मेटिक रूल्स 1945 के बार-बार तोड़ने का आरोप लगाया था। केवी बाबू ने राज्य के लाइसेंसिंग अथॉरिटी को 11 अक्टूबर को एक बार फिर से ईमेल के माध्यम से शिकायत भेजी थी।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसारबैन का आदेश उत्तराखंड आयुर्वेदिक व यूनानी सेवा के लाइसेंस अधिकारी डॉक्टर जीसीएस जंगपांगी ने निकाला है।  उन्होंने पतंजलि पर भरमाने वाले एड का आरोप लगाया था। बाद में यह खबर काफी तेज़ी से वायरल हो गई। जिन पांच मेडिसिन पर उत्तराखंड सरकार ने बैन लगाया है। जिसमे ब्लड प्रेशर, डायबिटीज, घेंघा, ग्लूकोमा तथा हाई कोलेस्ट्रॉल की इलाज के लिए उपयोग की जाने वाली मेडिसिन है। इन मेडिसिन के नाम बीपी ग्रिट, मधुग्रिट, थायरोग्रिट, लिपिडोम व आईग्रिट गोल्ड है।

Uttrakhand Government Banned 5 Medicine of Baba Ramdev Divya Pharmacy

ऑथोरिटी ने आदेश में पतंजलि के लिए ये लिखा

अथॉरिटी ने इस आदेश में पतंजलि को फॉर्मुलेशन शीट तथा लेबल में चेंज करने के उपरांत बैन मेडिसिन पर दोबारा मंजूरी लेने के लिए कहा। अथॉरिटी ने कंपनी को भरमाने वाली एड को जल्द हटाने के लिए कहा है। इसी के साथ फ्यूचर में अनुमति मिलने के पश्चात ही कोई एड चलाने की सलाह दी है। अगर इन आदेशों का पालन  प्रोडक्शन नहीं करेगी तब उससे लाइसेंस वापस ले लेने की चेतावनी भी दी है। जंगपांगी ने कंपनी से वन वीक में जवाब भी मांगा है।

Uttrakhand Government Banned 5 Medicine of Baba Ramdev Divya Pharmacy

पतंजलि ने क्या दिया बयान?

पतंजलि ने अपने बयान में कहा कि सभी मेडिसिन को पांच सौ वैज्ञानिक निरीक्षण करते है। पतंजलि में निर्माण होने वाले सभी प्रोडक्ट पर ध्यान दिया जाता है। इन वैज्ञानिकों की सहायता से आयुर्वेद परंपरा की हाई लेवल रिसर्च तथा क्वालिटी में निर्माण किया जाता है।